Memories

The places where moments reside

काजल


काजल तेरी आँखों का 

आँखों की मासूमियत झलकाता यह काजल 

बिना कुछ कहे ही बहुत कुछ कह जाता तेरा काजल 

तेरी लहराती ज़ुल्फ़ों के साथ ऐसा जैसे रात की ख़ामोशी और चंदा की रौशनी 

पूरी दुनिया अपने में समेट लेता तेरा काजल 

आँखों का आईना यह काजल 

उदास होने पर बिखरता हुआ 

ख़ुशी में चमकता हुआ 

डर में सहमी सी आँखों को अपने में समेटे हुए 

सिर्फ काली लकीर नहीं, रात का अक्स दिखता है इसमें 

वो रात जिसमे दिल चाहे बस तेरा साथ 

एक दूसरे का हाथ पकड़े हुए ख़ामोशी से चाँद को देखना और कहना " काश यह लम्हा यूँ ही थम जाए तेरे साथ "

हर रोज़ तुम लगाती तो इसे यूँ ही हो 

मगर पता है तुम्हें की इसका असर कितना गहरा है मुझ पर ?

तुम्हारी मुस्कराहट के साथ ऐसे खिलता है जैसे छोटी बच्ची के चेहरे पर कोई अनजानी चमक 

तुम्हारी आँखों का श्रृंगार है यह , पता है न ?

इसको देख कर दिल धड़क जाता है , मालूम है न ?

इसके बगैर तुम्हारी सूनी ऑंखें अच्छी नहीं लगती 

पता नहीं क्यूँ मगर मुझे अपनी परी , इन पंखों के बगैर परी नहीं लगती 

गुलाब की पंखुड़ी पर सुबह की ओस की तरह है 

इन काजल वाली आँखों के साथ तुमको बस देखते जाने का मज़ा ही कुछ और है 

लोग तो शराब पी कर बेहक जाते हैं 

और हमें तो तेरी आँखों का सुरमा ही होश में नहीं आने देता 

इन ज़ुल्फ़ों के साथ तुम्हारे काजल का अजीब रिश्ता है 

मेरा दिल छलनी करने के लिए तुम्हारे पास नज़रों के साथ इसका भी ज़खीरा है 

इस अनजाने शहर में पल पल बहुत याद आती हो तुम 

पूछती हो न की कब तक प्यार करता रहूँगा तुम्हें ?

जब तक यूँ ही मुस्कुराती रहोगी तुम तब तक यह दीवाना हर दिन बस ऐसे ही चाहता जायेगा तुम्हें ...
काजल काजल Reviewed by Shwetabh on 6:50:00 PM Rating: 5

4 comments:

  1. Arre bahut sahi..chaa gae shwetabh guru..n the line "log shrab pee ke behak jate hai..." was so so good..sexy lines man..bravo!!

    ReplyDelete
  2. Kya baat hai... kajal ki kaali si rekhaon ne bahot it gajab kar diya Shwetabh!

    ReplyDelete