Heroes: Why soldiers are forgotten ? #Cricket vs #Soldiers


Kiran Shekhawat


Abhinav Nagori

बहुत से अखबारों के चंद पन्नो पे एक खेल का मातम देखा है, जाने उस बेटी की मौत की खबर कौन से कोने में दफ़न होगी ?

भूल जाओगे तुम यह शोक कुछ दिनों बाद ही कि चार साल बाद फिर एक मौका आएगा

उस माँ का क्या होगा जिसका यह शोक ताउम्र रहेगा ?

वो तो लौट आये विदेश से, जो नहीं लौट पायी वो एक बेटी, एक पत्नी थी

देश सेवा तो दोनों ही कर रहे थे , फूल मालाएं दोनों को ही मिलेंगी , बस फर्क इतना की एक का स्वागत करने को भीड़ मिलेगी और एक का स्वागत चंद नम आँखें करेंगी

उस घर में भी दुःख होगा जिसका बेटा अभी तक नहीं मिला

हर गुज़रते पल के साथ ज़िन्दगी की उम्मीद साथ छोड़ रही होगी , मगर जिंदा होने की आस तो अभी भी होगी

क्या एक जीत की प्रार्थनाएं एक ज़िन्दगी की प्रार्थनाओं से ज्यादा हो गयी ?

सब पूछ रहे हैं एक हार की वजह , दो मौतों की वजह कोई नहीं पूछ रहा

यह भारत है जनाब, यहाँ देश में इक खेल पे मरने वाले बहुत मिलेंगे मगर देश पर मरने वालों के लिए कोई नहीं

जो एक खेल की हार का दुःख मनाये तुम उसे साथी मानते हो

मगर जो एक सिपाही को खोने का दुःख अपना समझता हो तो उसे क्या कहोगे ?

जो तुम सुबह अख़बार पढ़ रहे हो तो मुझे एक बात बताना ज़रूर...

बहुत से अखबारों के चंद पन्नो पे एक खेल का मातम देखा है, 

उस बेटी की मौत की खबर कौन से कोने में दफ़न होगी ?

The story behind this- The whole country was more interested in the run up clash with Australia and at the same time a Dorneir Surveillance aircraft of the Indian Navy crashed at sea with 3 people on board. One was rescued by fisherman while the rest 2 were still to be found. At the day of the match, the whole country was praying for a win , I was praying for these 2 lives. Nobody cared for them. As the night progressed, the country started mourning the title loss, I mouned the loss of the female navigator whose body was found with the co pilot yet to be found. The next day , newspapers are filled with reports of the match loss, jokes on the cricket team and such but I could not find even one news about the death of the pilot there. This is one such country where one sport overshadows everything else, even soldiers.

I question it why???

This post is dedicated to all those people who treat a soldier`s loss as their own personal loss and is in memory of Lt. 
Kiran Shikhawat and Second officer-sub-lieutenant Abhinav Nagori who is still missing.

An update: Second officer-sub-lieutenant Abhinav Nagori has also been found.. dead. RIP Soldiers .


The half mast flag in rememberance of them...

Heroes: Why soldiers are forgotten ? #Cricket vs #Soldiers Heroes: Why soldiers are forgotten ? #Cricket vs #Soldiers Reviewed by Shwetabh Mathur on 10:21:00 AM Rating: 5

No comments: