Memories

The places where moments reside

ईंटें



कुछ चंद ईटें बची हैं गुज़रे ज़माने की


पुराने वक़्त का उखड़ा हुआ पलस्तर एक बीता वक़्त याद दिलाता है



समय की थपेड़ों को सह चुकी है यह ईटें, बस न जाने कब कंक्रीट की नयी इमारत की चाह के आगे गिर जाएँ

इस पुरानी कोठी में चुनी गयी थी तब, अब खुद ही इतिहास का बचा हुआ हिस्सा बन कर रह गयी हैं

किसी कोने में छिपा कर कुरेदा गया वो नाम आज भी पलकों के कोने से कहीं दिख जाता है 

Distemper और पेंट की तहों में एक कोशिश आज भी बदलते ज़माने के साथ मॉडर्न दिखने की है

चटकती लकड़ी की चौखट को संभाले हुई ईटें , खुद की ज़रा सी सेंध में कील फँसा कर एक टंगी nameplate यहाँ रहने वाले का परिचय करा रही है

कुछ गिर चुकी ईटें बस अब उठा कर यूँ ही रख दी गयीं हैं जैसे उनसे कह दिया गया हो की अब तुमसे नया आशियाना नहीं बनेगा 

इन्ही ईटों के बीच बना रोशनदान और उससे आती धूप आज भी सर्दी के दिनों में दादी के पैरों को सुकून देती है , माँ की अचार की बरनी भी धूप में इसी चौखट पर रखी जाती है   

इन ईटों की दीवार भी खूब है ... कभी बड़े होते बच्चों के लिए विकेट बन जाती है तो कभी घर की नन्ही परी के लिए drawing का कागज़, कभी जल्दी में किसी ने उसे नोटपैड बना कर नम्बर लिख डाला , तो कभी कैलंडर टंग कर दुनिया भर का हिसाब किताब हो गया

वक़्त की सदियों पुरानी मार है , एक पुराने घर को संभाले यही नीव है अब

कुछ चंद ईटें बची हैं गुज़रे ज़माने की.....


A few lines to remember the buildings of the old times through this, which fight time and development just to stay intact.
ईंटें  ईंटें Reviewed by Shwetabh on 1:46:00 PM Rating: 5

8 comments:

  1. Beautiful beautiful post. Absolutely loved it!

    ReplyDelete
  2. The times that pass by, never to come...oh we are changing as our old habits go their way to a silent grave...loved it

    ReplyDelete
  3. बहुत अच्छी Article है.....धन्यबाद !!!

    ReplyDelete
  4. Bohot bohot khoob...aapki yah rachna mujhe Jagjit Singhji ki ghazal yeh daulat bhi lelo ki yaad di hai, very vivid and perfectly descriptive. Would wait for more now :)

    ReplyDelete
  5. ईंटों से यादें टकराती हैं, यादें फिर भी नहीं टूटती, ईंटें टूट जाती हैं.

    ReplyDelete
  6. Reminded me of my childhood memories. A lot of houses have been converted to high rose buildings now. All that remains is the skeleton of the past. This poem has a haunting effect.

    ReplyDelete