किताब ... #FridayFotoFiction




अपने ज़माने में कभी स्कूल शुरू तो किया था मगर फिर घर की 

जिम्मेदारियां आ गयीं और पढ़ाई छोड़ कर फिर शादी हो गयी मगर

पढ़ने की ललक हमेशा बनी रही . उन्हें आज भी याद है वो दिन जब

अपनी पोती के होने पर कितना हंगामा किया था क्यूंकि उहें पोता

चाहिए था, “ बोझ “ नहीं ..

आज वही बोझ इतनी बड़ी हो गयी कि पिछली गर्मी की छुट्टियों में

आई थी तो अपनी पुरानी स्कूल की कहानियों की किताब अपनी दादी

के पास छोड़ गयी थी...

अब जब भी उनकी पुरानी ललक जाग उठती है तो खाली वक़्त में

उसी पुरानी किताब में कहानियों के बीच में अपनी पोती को ढूंढ लेती

हैं ...

Linking up with Tina and Mayuri
किताब ... #FridayFotoFiction किताब ... #FridayFotoFiction Reviewed by Shwetabh Mathur on 9:30:00 AM Rating: 5

7 comments:

  1. Very nice, Shwetabh. More power to her.
    Thank you for writing for #FridayFotoFiction

    ReplyDelete
  2. A sweet bond transcending generations does translates into a good read!

    Hindi bhasha ki madhurata aur aap ki kahani inn dono ke milap se ubhare huve rang ek bahot hi anokhi chavi chod jaate he dilo dimag paar! (sorry i cant type in Devanagari...so pl bear!)

    - Anagha From Team MocktailMommies
    https://mocktailmommies.blogspot.in/2017/08/i-chose-light.html

    ReplyDelete
  3. I am reading Hindi after ages and I was about to skip but decided to give it a try. Kya Khoob likes hai apace, baniya hai!

    ReplyDelete
  4. Very nicely written. Zeal to educate is some thing I can relate to, my Mom in Law is like that. Beautiful

    ReplyDelete
  5. Bohot khoob, more power to her.
    Thank you for linking up with #FridayFotoFiction.

    ReplyDelete