Memories

The places where moments reside

Online shopping और चवन्नी अठन्नी का हिसाब किताब



*इस पोस्ट का किसी के भी promotion से कोई लेना देना नहीं है,  आपका मन करें तो इस्तेमाल करें नहीं तो कोई ज़बरदस्ती नहीं *



इस ऑनलाइन शॉपिंग ने तो पक्का मुनीम बना कर रख दिया है. इसमें 3 किरदार हैं जिन्होंने ऐसा बना दिया है – Cashkaro.com, Paytm,  Freecharge. बात 2014 की है जब पहली बार मेरा सामना Cashkaro से हुआ था. तब जुड़ने के 25/- मिल रहे थे. पहले सोचा था की यह भी ऐसा वैसा ही कुछ निकलेगा , मिलेगा कुछ नहीं खरीदने के बाद. मगर हम भी खरीददारी करते गए और चवन्नी अठन्नी रुपया कैशबैक मिलता गया. जब पहली बार पैसा बैंक अकाउंट में आया तो लगा , “ अबे यह तो सच में देता है “. बाकी sites ने सौतन की तरह ज्यादा % का लालच दे कर इससे मेरा पत्ता काटने की कोशिश की मगर हम भी कमबख्त पहले प्यार वाली माशूका की तरह चिपके हुए हैं . मोबाइल रिचार्ज पे ज्यादा पैसा बचाने के चक्कर में हम भटकते हुए paytm पहुँच गए. कुछ साईट पहले भी इस्तेमाल कर रहे थे मगर उनपर ऑफर्स उतने नहीं आते थे, जो भी आते थे वो App पे होते थे और वो हमें पसंद नहीं. Cashkaro से जब उसपर एक % हर बार वापस मिल रहा था तो कहीं और क्यूँ जाते ? Paytm का ऑफर कोड लगा पैसा वापस लेते और ऊपर से Cashkaro से भी लेते. 


आज हालात यह है की रिचार्ज वाले दिन मुनीम की तरह बही खाता खोल कर बैठ जाते हैं और गणित शुरू हो जाती है. उसी वक़्त मेरे अन्दर फिल्म  “दिल” के अनुपम खेर की कंजूस आत्मा आ जाती है. कितना रिचार्ज  करना है, कितना साईट पे पहले से अकाउंट में पड़ा है , ऑफर से कितना कम होगा, Cashkaro से पैसा मिलने के बाद कितना पड़ेगा इसका हिसाब शुरू हो जाता है. अब चूँकि हर साईट पे अलग अलग % मिलता है तो गणित का हिसाब “ चवन्नी अठन्नी ” में पहुँच जाता है. Freecharge कभी कभी बहुत ज्यादा भी वापस देता है मगर नखरे भी बहुत करता है तो हिसाब वहाँ भी गड़बड़ हो जाता है . अभी हाल में ही इन्टरनेट रिचार्ज के हिसाब में freecharge से रिचार्ज इसलिए कराया क्यूंकि paytm के 649/-  मुकाबले मुझे net effect में 648/- ही देने पड़ रहे थे. देखा “ चवन्नी अठन्नी” का हिसाब ? Cashkaro ने आदत इतनी खराब कर दी है की अब तो घर वालो का बिल पेमेंट भी उसी के द्वारा करता हूँ. 



जब घर वाले पूछते हैं तो “ दुकान वाला आपको कौनसा 1/- का भी डिस्काउंट देगा ” उनकी बोलती बंद कर देता है. मुनीम जी वाला काम तो  आगे भी चलता रहता है. Cashkaro पे transaction ट्रैक करना पड़ता है, कुछ गड़बड़ मिली तो उनकी जान खानी पड़ती है... मतलब की मैंने तो 30-30 पैसे के कैशबैक तक के लिए हंगामा किया है. वैसे सच कहूं तो हंगामा करने की ज़रुरत नहीं पड़ती. Cashkaro पे एक लड़की है customer support के लिए, एक tweet करो और मामला फ़ौरन सुलट जाता है, नहीं तो फ़ौरन फ़ोन करके खुद ही मदद कर देती है. अब ऐसा फ़ौरन जल्दी वाला support मिलेगा तो कौन कहीं और जाएगा ? ( माना की वैलेंटाइन वीक चल रहा है मगर इस लाइन को पढ़ कर आपको जो विचार आ रहे हैं उन्हें गोली मार दो, पता नहीं क्या क्या सोचते रहते हो ?) 

इस चव्वनी अठन्नी अभियान का यह मतलब है की अभी हाल में ही मेरी एक दोस्त ने Cashkaro के द्वारा खरीददारी शुरू की है. अब तो वो भी चव्वनी अठन्नी वापस ले कर हिसाब लगाती रहती है की उनको बोलना पड़ता है की अगर कभी बाज़ार से सामान खरीदने जाओ तो दुकानदार से सामान लेने के बाद यह मत कह देना “ कैशबैक भी तो दो अब”. 

बाकी लोग ऑनलाइन शॉपिंग सहूलियत, वक़्त बचाने के लिए करते हैं मगर हम क्या करें, हमारे अन्दर तो लगता है जैसे अनुपम खेर की दिल वाली आत्मा परमानेंटली ही बस गयी है ... 

हाय रे यह कैशबैक ....


Online shopping और चवन्नी अठन्नी का हिसाब किताब Online shopping और चवन्नी अठन्नी का हिसाब किताब Reviewed by Shwetabh on 2:52:00 PM Rating: 5

1 comment: