वो लाल डायरी ... #fridayfotofiction





गरिमा से शादी हुए उसे महज 4 महीने ही हुए थे , आज भी वो नताशा को भूल नहीं पाया था. वो दर्द आज भी था. गरिमा हमेशा पियानो पे एक धुन बजाया करती थी जो उसे नताशा की याद दिलाता था. 7 दिन पहले एक एक्सीडेंट में गरिमा मौत के इतने करीब पहुँच गयी कि वो सहम गया उसको खोने के डर से. घर पे कुछ सामान ढूंढ रहा था तो एक लाल डायरी हाथ लगी.

“मुझे पता है राज आज भी शायद किसी को याद करते हैं,दिल बयाँ करता है. कोशिश करुँगी को उनको इतना प्यार दूं की उनके सारे ज़ख्म भर जाएँ. वो एक दोस्त,गर्लफ्रेंड तलाश रहे थे,और मैं बीवी बन गयी उनके लिए...“

आगे पढ़ने से पहले ही उसकी आँख भर आई और अनजाने ही उसके हाथ वही धुन बजाने लगे.. तभी दरवाज़ा खुला और गरिमा अन्दर आई..वो खुली लाल डायरी सब कुछ बयान कर गयी.

Linking up with Tina and Mayuri
वो लाल डायरी ... #fridayfotofiction वो लाल डायरी ... #fridayfotofiction Reviewed by Shwetabh Mathur on 9:38:00 AM Rating: 5

7 comments:

  1. How touchy... emotional tale of love ! Time & love heals every wound.

    ReplyDelete
  2. True Love has patience and can heal everything!
    Khubsurat khayal!!
    -Anagha From Team MocktailMommies
    http://mocktailmommies.blogspot.in/2017/08/the-reformed-symphony.html?m=1

    ReplyDelete
  3. Aisa pyar sabko mile Jo purane zakhmo ko bhulane me madad kre

    ReplyDelete
  4. Love always finds a way. In, when it needs to bloo, and out when it ha withered.
    Thank you for writing for #FridayFotoFiction

    ReplyDelete
  5. Very emotional story. True love always gets rewarded but patience is the key...Bahut sundar kahaani hai!!

    Prasanna from Team Mocktailmommies

    ReplyDelete
  6. Very touching! Life teaches a lot, what you need is patience to see and accept

    ReplyDelete
  7. A very touching tale Shwetabh. True love wins always. Thanks for linking up with #FridayFotoFiction.

    ReplyDelete