11:03:00 AM
                           वो आँखें कुछ ढूंढती हैं…उन लम्हों को फिर से जीने की तमन्ना देखती हैं.. कुछ जज़्बात हैं जिन्हें कहने क...
वो आँखें कुछ ढूंढती हैं ... वो  आँखें  कुछ  ढूंढती  हैं ... Reviewed by Shwetabh on 11:03:00 AM Rating: 5