Memories

The places where moments reside

9:22:00 PM
वो चाय की ट्रे.... दो परिवारों से ज्यादा दो अजनबियों के बीच की ख़ामोशी को जोड़ती हुई बस एक ज़रिया बन गयी है कुछ बातें कहने को, कुछ बातें सुनने ...
वो चाय की ट्रे ........ वो चाय की ट्रे ........ Reviewed by Shwetabh on 9:22:00 PM Rating: 5
" Doctor साहब आप भगवान् हो " . He said....... " Doctor साहब आप भगवान् हो  "  . He said....... Reviewed by Shwetabh on 10:15:00 PM Rating: 5