11:23:00 PM
मुझे याद हैं वो रास्ते जो लेट जाते थे ज़मीन पर जब हम चला करते थे.. मुझे याद हैं वो पेड़ जो अपनी छावों फैलाते थे जब उनकी गोद ...
मुझे याद हैं वो ...... मुझे  याद  हैं  वो ...... Reviewed by Shwetabh Mathur on 11:23:00 PM Rating: 5